Health Tips - अंडकोष की बीमारी के लिए घरेलु और आयुर्वेदिक उपचार

Health Tips - अंडकोष की बीमारी के लिए घरेलु और आयुर्वेदिक उपचार
Health Tips

Loading...
अंडकोष की बीमारी के लिए घरेलु और आयुर्वेदिक उपचार

लगभग बहुत से आदमी को अपने अंडकोष के कुछ बीमारी झेलना पड़ता है उसमे से है अंडकोष का बढ़ना और कहे सूजन होना जो की काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है इस आर्टिकल में कुछ घरेलु और आयुवेदिक
उपचार को बताया जा रहा है जिससे ऐसी किसी भी बीमारी को कण्ट्रोल और ठीक किया जा सकता है तो चलिए सीखते है.


1. रेहान : 10 ग्राम रेहान के बीजों को पानी में पीसकर थोड़ा गर्म करके उसे मिला ले फिर अण्डकोष पर लगाने से अण्डकोष का बढ़ना रुक जाता है।

2. जीरा : 10-10 ग्राम जीरा और अजवायन पानी में पीसकर थोड़ा कर ले फिर  अण्डकोष पर लेप करने से अण्डकोष का बढ़ना रुक जाता है।

3. रोगन कमीला : रोगन कमीला के अण्डकोष पर अच्छी से मालिश करने से अण्डकोष की खारिस सही हो जाती है।



4. शराब : 60 मिलीलीटर शराब में पीसा हुआ नौसादर मिला ले फिर रूई में भिगोकर दिन में अण्डकोष पर 3 से 4 बार लगाने से सूजन काम जाता है।

Read More

Health Tips {Chicken Pox} - चेचक के दाग को कैसे कम या ठीक किया जाता है

5. बर्शाशा : 2 ग्राम बर्शाशा पानी के साथ रात को सोते समय ले इससे अण्डकोष की सूजन कम हो जाती है।

6. हल्दी : 2-6 ग्राम हल्दी पिसी को अण्डों की जर्दी में मिलाकर थोड़ा गर्म कर ले फिर अण्डकोष पर अच्छे से लेप करने, ऊपर से एरण्ड के पत्ते को बांधने से चोट लगे अण्डकोष ठीक हो जाता है।

7. माजूफल : 12 ग्राम माजूफल 6 ग्राम फिटकरी को पानी में पीसकर अण्डकोष पर 15 दिन तक लगातार लेप करने से अण्डकोष में भरा पानी कम हो जाता है।

8. छोटी हरड़ : 10-10 ग्राम छोटी हरड़, रसौत को पीसकर सरसों के तेल में अच्छी तरह से मिलाकर लेप करने से अण्डकोषों की खारिस और जख्म खतम हो जाता हैं।

9. दूध : 1 गिलास मीठे गर्म दूध में 25 मिलीलीटर एरण्ड का तेल मिलाकर उसे पीने से अण्डकोष की बीमारी में बहुत ज्यादा लाभ होता है।

10. तंबाकू : तंबाकू के ताजे पत्ते हल्का गर्म करके अण्डकोषों पर बांधकर ऊपर से लंगोट पहन लें, ताकि पत्ता अपनी जगह चिपका रहे। कुछ देर बाद जब लंगोट भीग जायें, ऐसा होने पर लंगोट बदल दें, और दूसरा लंगोट पहन लें। सुबह अण्डकोष में हल्के-हल्के दाने छेद से हो जाते है। यदि ऐसा हो जाए तो उन पर मक्खन लगा दें। कुछ दिन तक सोने से पहले यह प्रयोग करें तथा उठने पर पत्ता खोल दें इससे आराम मिलता है।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमे जरूर बताये अगर कोई सुझाव हो या कोई क्वेश्चन हो तो कमेंट करके पूछ सकते है।




loading...
Loading...