[Health Tips] आंख आने पर करे घरेलू इलाज़ | Conjunctivitis

[Health Tips] आंख आने पर करे घरेलू इलाज़
[Health Tips] आंख आने पर करे घरेलू इलाज़

आई फ्लू एक आम वायरल इंफेक्शन है जो कभी-कभी बैक्टीरिया से भी होता है, इसे आम भाषा में आँख आना भी कहते हैं। जैसे की आँख का लाल होना , दर्द होना और आंखो से पानी आना इसके प्रमुख लक्षण हैं।

आंख आने पर आंखों में हल्की चुभन महसूस होती है और ऎसा लगता है जैसे आंख में कुछ अटका हुआ है। इस रोग में आंख खोलने में भी बहुत दर्द होता है और इस रोग के बढ़ने पर गाढ़ा पदार्थ भी आँख से निकलता है इसलिए रात में आँखों के पलकें चिपक जाती हैं।
*********************************************************************************
*********************************************************************************
यह एक संक्रामक रोग है। यह जिस रोगी के तौलिये या रूमाल के इस्तेमाल से भी होता है। आज मै आपको इसके कुछ घरेलू उपचारों के बारे में बताने जा रहा हु।  जिन्हें आजमा कर आप आसानी से इस रोग से  आराम पा सकते हैं।

मुलहठी को लगभग दो घंटे तक पानी में भिगोकर रखें। उसके बाद फिर उस पानी में रूई डुबोकर पलकों पर रखें हलके से लगाए  , ऎसा करने से आंखों की जलन और  दर्द में बहुत आराम मिलता है ।

आधे गिलास पानी में दो चम्मच त्रिफला चूर्ण लगभग दो घंटे भिगोकर रखें । और फिर इसे छान लें, इस पानी से दिन में 3 से 4 बार छींटें मारकर आँखें धोने से काफी लाभ होता है ।

नीम के पानी से आंख धोने के उसके बाद आंखों में गुलाबजल डालें बहुत लाभ होगा।
हरी दूब (घास ) का रस निकालें अब इस रस में रूई भिगोकर आँखों के पलकों पर रखें, इससे करने से आंखों में ठंडक मिलेगी।

हरड़ को रात में  पानी में भिगोकर रखें। सुबह उस पानी को छानकर उस पानी से आंख धोएं , ऐसा करने से आंखों की लालिमा और जलन होना दूर होगी ।

दूध पर जमी मलाई निकल लें, अब इसे दोनों पलकों पर रखे और फिर ऊपर से रूई रखकर पट्टी बांध दें। यह प्रयोग रात को सोते समय करें ,काफी लाभ मिलेगा।

सुबह उठते ही अपना बासी थूक भी संक्रमित आंखों पर लगाने से इस रोग से निजात पाया जा सकता है।

loading...
Loading...