Dehati Jokes and Chutkule In Hindi

Dehati Jokes and Chutkule In Hindi
Dehati Jokes and Chutkule In Hindi 

एक युवक अपनी प्रेमिका के लिए एक अंगूठी खरीदने के विचार से ज्यूलर के शोरुम मे गया। 
उसने शोकेस मे रखी अंगुठी के बारे मे पूछा, इस की क्या कीमत है?
पांच हजार रुपए, सेल्जमैन ने बताया। 
इतनी अधिक कीमत सुन कर युवक के मुँह से सीटी निकल गई। 
फिर उसने एक अंगूठी की ओर इशारा करके पूछा, इसकी? 
दो सीटियां- उत्तर मिला। 
मोहन अपने दोस्त राकेश से कहता है, देखो दोस्त चुंकि हम लोकतंत्र प्रणाली पर विशवास रखते हैं 
इसलिए हमने आपने घर मे सुख शान्ति बनाए रखने के लिए एक सिस्टम बनाया है। 
मेरी पत्नी वित मंत्री है। मेरी सास रक्षा मंत्री है। मेरे ससुर विदेश मंत्री है और साली लोक सम्पर्क मंत्री है। 
राकेश: और आप शायद प्रधान मंत्री होगे?
मोहन: नही यार, मै बेचारा तो जनता हूँ। 
 *********************************************************************************



मुन्नाभाई : सर्किट बोले तो ये फोर्ड क्या है? 
सर्किट : भाई, गाड़ी है।
मुन्नाभाई : तो फिर ऑक्सफोर्ड क्या है?
सर्किट : बोले तो सिम्पल है भाई। ऑक्स माने बैल, फोर्ड बोले तो गाड़ी। 
मतलब ऑक्सफोर्ड बोले तो बैलगाड़ी। 
 *********************************************************************************

संता - केला कैसे है 
फलवाला - 1 रुपये 
संता - 60 पैसे का दोगे क्या
फलवाला - इतने में तो केले का छिलका ही मिलेगा।
संता - तो 40 पैसा लेकर सिर्फ केला दे दो।
 *********************************************************************************

तीन लोग स्वर्ग के दरवाज़े पर खड़े थे। 
भगवान : सिर्फ एक ही सीट खाली है स्वर्ग में। 
पहला :मैं पुजारी था। सारी उम्र आपकी सेवा की है।
दूसरा :मैं डॉक्टर था। सारी उम्र लोगों की सेवा की है।
तीसरा :मैं टीचर था और मैंने पढ़ाने के साथ साथ जनगणना,चुनाव, सेमिनार,पोलियो,पोषाहार,बोर्ड परीक्षा,यूनिवर्सिटी परीक्षा,CBSE,ICSE,SSC,HSC..... 
भगवान -बस पगले...अब रुलायेगा क्या? चल अंदर आ जा।
 *********************************************************************************

दो दोस्त मोटर-साईकिल पर तेज रफ्तार से जा रहे थे। 
उन्हें एक ट्रैफिक पुलिस वाले ने रोका और कहा : “तुम ये क्या कर रहे हो, अगर एक्सीड़ेंट हो गया तो”?
दोनों दोस्त बोले : आप चिंता मत कीजिए कांस्टेबल साहब, भगवान हमारे साथ है”। 
कांस्टेबल : ओह! ‘इसका मतलब एक मोटर-साईकल पर तीन आदमी’, चलो चालान कटाओ। 
*********************************************************************************

बेयरा : “अरे-अरे बाबु जी, आप ये चम्मच किससे पूछकर ले रहे हैं”? 
दयानन्द : “ड़ॉक्टर के हुकम से”। 
बेयरा : “क्या मतलब”। 
जेब से दवा की शीशी निकाल कर दिखाते हुए दयानन्द : “देखो, दवा की इस शीशी पर लिखा है.....खाना खाने के बाद दो चम्मच ले लें”।
 *********************************************************************************

ग्रामीण : डॉक्टर साहब, क्या चश्मा लगाने के बाद मैं पढ़ सकूंगा? 
डॉक्टर : हाँ-हाँ, तुम फरांटे से पढ़ सकोगे।
ग्रामीण : अच्छा हुआ मेरी पढ़ाई-लिखाई पर एक पैसा भी खर्च नहीं हुआ। 
पता नहीं लोग बच्चों को स्कूल भेजने की बजाय चश्मा क्यों नही दिलवा देते?
*********************************************************************************



एक पागल आदमी कुएं के अन्दर झांककर चिल्लाता रहता है, ”पच्चीस ….. पच्चीस ….पच्चीस …. एक सज्जन उसे बहुत समय तक देखता रहता है। उसे पागल व्यक्ति के ”पच्चीस….. पच्चीस कुछ समझ में नहीं आ रहे थे।
वो उस व्यक्ति के पास जाता है। उसने पूछा, ”भाई ये कुएं में झांककर पच्चीस-पच्चीस क्या चिल्ला रहे हो ? 
पागल उसे बोलता है, ”आप यहाँ आकर कुए में देखो तो आपको पता लग जाएगा।
सज्जन पास आता है और कुए में झांकते हुए झुक जाता है।
पागल झट से उसको पीछे से लात मारकर कुए में ढकेल देता है। बाद में चिल्लाने लगता है, ”छब्बीस …… छब्बीस ……. छब्बीस …..
 *********************************************************************************

दम्पति ने रोज-रोज के झगड़ों से तंग आकर कोर्ट में तलाक की याचिका दर्ज की। 
न्यायधीश : आप अपने तीन बच्चों का बंटवारा कैसे करोगे? 
पति : ठीक है जज साहब, बच्चों के समान बंटवारे के लिए हम अगले साल तलाक लेंगें। 
 *********************************************************************************

मुन्नाभाई : मामू तू कितना तक पढ़ा है? 
मामू : BA 
मुन्नाभाई : साला, सिर्फ दो अक्षर पढ़ा है और वो भी उल्टा ! 
*********************************************************************************

पति पत्नी फिल्म देखने गए। फिल्म शुरू होने से पहले पति ने पत्नी को एक बनारसी पान दिया। 
पत्नी- एक पान आप अपने लिए भी ले आते। 
पति- मैं तो बिना पान के भी चुप रह सकता हूं।


loading...
Loading...